dating a plastic surgeon - Chatting sex kolkata

I teased him with skirts that would ride up to show off my panties or shirts that were lowcut and showed off my large breasts.

I told him to have a good time and to call if he were going to miss dinner.

He nodded vaguely and adjusted his half-hard cock in his pants as I turned to go into my room.

हाय, मेरा नाम सुमित है। मुझे अभी तक यकीन नहीं होता जो मैं लिखने जा रहा हूं। ३ दिन पहले मेरे साथ ऐसा एक्सपेरिएंस हुआ जो मैं सोच भी नहीं सकता था। हुआ यूं कि मेरी पूरी फ़ेमिली (मेरा संयुक्त परिवार है) किसी शादी पे दो दिन के लिये चली गयी। घर सिर्फ़ पापा, मम्मी और मैं था। सुबह पापा भी ओफ़िस चले गये। मम्मी कामवाली के साथ काम करने लगी और मैं अपने कमरे मैं स्टडी करने चला गया। करीबन दपहर एक बजे कामवाली चली गयी। मैं स्टडी कर रहा था के मुझे मम्मी की आवाज़ अयी। मैं कमरे के बाहर गया तो देखा कि मम्मी फ़र्श पर गिरी पड़ी थी। मैने फ़ौरन जाकर मम्मी को उठाया और पूछा "क्या हुआ" "फ़र्श पर पानी पड़ा था, मैने देखा नहीं और गिर गयी" "चोट तो नहीं लगी" "टांग मुड़ गयी" "हल्दी वाला दूध पी लो" "नहीं, उसकी ज़रूरत नहीं। बस टांग में दर्द हो रहा है, लगता है नश पे नश चढ़ गयी है" "थोड़ी देर लेट जाओ" "मुझसे चला नहीं जा रहा, मुझे बस मेरे कमरे तक छोड़ आ" "आराम से लेट जाओ और अब कोई काम करने की ज़रूरत नहीं है" "हाय रे, टांग हिलाई भी नहीं जा रही" "मैं कुछ देर दबा दूं क्या" "दबा दे" मैने टांग दबानी शुरू की। मैं पूरी टांग दबा रहा था, पैर से लेकर जांघ तक "कुछ आराम मिल रहा है?

" "हां" "मेरे ख्याल से तो आप थोड़ा तेल लगा लो, जल्दी आराम मिल जायेगा" "कौन सा तेल लगाऊं" "वो ही, जो बोडी ओयल मेरे पास है" "चल ले आ" मैं अपने कमरे से जाकर तेल ले आया। मम्मी ने अपनी शलवार ऊपर उठा ली लेकिन वो घुटने से ऊपर नहीं उठ पयी। मैने कहा "अगर आपको ऐतराज़ न हो तो मैं ही लगा दूं" इतने में फोन की बेल बजी। फोन पे पापा ने कहा कि वो आज खाना खाने नहीं आयेंगे। "किसका फोन था" " पापा का था कि वो खाना खाने नहीं आ रहे" "अच्छा" "तेल लगा दूं?

A few times, I even left the door to my room ajar while I masturbated and called his name, but still we didn't do anything.

Finally, my husband left on a short business trip and Nick and I were alone in the house." "आपकी जांघें सोफ़्टी की तरह मुलायम हैं" मम्मी इस पर कुछ नहीं बोली। मैने तेल मम्मी की हिप्स पर लगाना शुरु कर दिया "मम्मी आपकी हिप्स को छू के ..." "छू के क्या? " "आपके हिप्स को छू के दिल करता है कि इन्हें छूता और मसलता जाऊं। आपकी जांघें और हिप्स बहुत चिकनी हैं। तेल से भी ज़्यादा चिकनी। मम्मी क्या आपकी कमर भी इतनी ही चिकनी है? खुद ही देख ले" "मम्मी आप पहले के जैसे पीठ के बल लेट जाओ" "ठीक है" फिर मैं मम्मी के पेट और कमर पर हाथ फेरने लगा "बेटे अब मैं बहुत मोटी होती जा रही हूं, है न? " "सेक्सी का मतलब होता है कामुक" "सच्ची, मैं तुझे कामुक लगती हूं?" "नहीं मम्मी, आप पहले से ज्यादा सेक्सी लगने लगी हो? " "हां, मम्मी मैने आज तक इतनी चिकनी हिप्स नहीं देखी, क्या मैं आपकी हिप्स पे किस कर सकता हूं? " "बता" मैंने फिर से पैंटी के ऊपर से मम्मी की चूत को चूमा। मम्मी ने कहा "आआह्हह्हह्हह्हह्हह.....ईईएस्सस्सस्सस्सस्सस्स...बेटा मेरी चूत को थोड़ा और चूम" "कच्छी के ऊपर से ही?I got out of the shower and dried off, wrapping the towel around me and opening the door to go back to my room.Nick was just coming out of his room to go somewhere, and I pretended not to notice him as I let my towel slip down to reveal a breast.One morning in the shower, I was lamenting my lack of a good, hard fuck and remembering what our sex life was like just a few years before.

Comments are closed.